ये है जंगल की सुपरपावर, इसकी स्पीड के सामने नहीं टिकता कोई

515

अमेरिका से भी सुपर होती है जंगल की पॉवर ….. जाने कैसे BBC Dainik

loading...

आपने सुना होगा कि अमेरिका आज दुनिया की इकलौती सुपरपावर है। किसी दौर में सोवियत संघ भी सुपरपावर कहा जाता था। चीन आज उभरती महाशक्ति है। भारत के बारे में भी कहा जाता है कि उसमें महाशक्ति बनने की क्षमता है। मगर, क्या आपने कभी सोचा है कि जानवरों के बीच कौन है जिसे सुपरपावर कहा जा सकता है? अगर आप ये अंदाजा लगा रहे हैं कि शेर, बाघ या चीता, जंगल की दुनिया के सुपरपावर हैं तो आपका अंदाजा बिल्कुल गलत है।

जानवरों की दुनिया के सुपरपावर हैं, सांप। जो सबसे खतरनाक, शातिर शिकारी होते हैं। अमेरिका के कैलिफोर्निया के जंगलों में मिलने वाला वेस्टर्न डायमंडबैक रैटलस्नेक, दुनिया का सबसे सब्र वाला शिकारी है। ये अकेले, छुपकर रहते हैं। बड़े इत्मीनान से अपने शिकार का इंतजार करते हैं। कई बार ये इंतजार दो बरस लंबा तक हो सकता है। यानी ये सांप दो साल तक बिना कुछ खाए रह लेते हैं। लेकिन जैसे ही मौका आता है, ये सांप बहुत भयानक तरीके से अपने शिकार पर हमला करते हैं।

इनका शिकार पकड़ने में कामयाब होना करीब-करीब तय होता है। इनका सबसे खतरनाक हथियार इनकी ताकत नहीं, रफ्तार होती है। इस साल मार्च में छपे एक रिसर्च के मुताबिक, अपने शिकार पर सांप का हमला महज 44 से 70 मिलीसेकेंड में खत्म हो जाता है। वो कितना कम वक्त लेते हैं, इसका अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि हमें अपनी आंखें झपकाने में भी 200 मिलीसेकेंड लगते हैं। इतने में कोई सांप चार बार अपने शिकार पर हमला कर चुकेगा।

ये रफ्तार हमारी कल्पना से भी परे है। हम जिस तेजी से अपना कोई भी अंग हिला-डुला सकते हैं, उससे कई गुना तेज रफ्तार से सांप शिकार पर हमला बोलते हैं। अगर हम सांप जैसी फुर्ती दिखाएं तो हम गश खाकर गिर पड़ेंगे। हमारा दिमाग उतनी रफ्तार का झटका ही नहीं बर्दाश्त कर सकता।

अमेरिका की लूसियाना यूनिवर्सिटी के डेविड पेनिंग ने सांपों के बारे में काफी रिसर्च की है। वो कहते हैं कि सांपों के हमले में शिकार का बचना करीब-करीब नामुमकिन है। पेनिंग ने महीनों तक, अमेरिकी रैटलस्नेक के शिकार करने के तरीके पर नजर रखी है। इसके अलावा भी पेनिंग ने कई जहरीले और बिना विषहीन सांपों के बारे में रिसर्च की है। वो कहते हैं कि सांप जितनी देर में शिकार पर हमला करता है, उतनी देर में तो शिकार को भनक तक नहीं लगती कि उस पर हमला हुआ है। दुनिया में सांपों की करीब साढ़े तीन हजार नस्लें पायी जाती हैं। इनमें छोटे से वाइपर्स से लेकर बड़े-बड़े अजगर तक शामिल हैं। मगर इनके बारे में ज्यादा पड़ताल नहीं की गई है। लेकिन, जिन पर भी रिसर्च किया गया है, उन सभी में गजब की रफ्तार देखी गई है।

loading...