वीडियो जारी करने वाले BSF जवान तेज बहादुर यादव को बनाया गया ‘प्लंबर’

1243

वीडियो जारी करने वाले BSF जवान तेज बहादुर यादव को बनाया गया ‘प्लंबर’

नई दिल्ली: वायरल वीडियो में घटिया खाने का आरोप लगाकर बड़े अधिकारियों को कटघरे में खड़ा करने वाले बीएसएफ जवान तेज बहादुर के बारे में बड़ा खुलासा हुआ है. उन्हें दूसरी यूनिट में ट्रांसफर किया गया है, जहां उन्हें प्लंबर का काम दिया गया है. ऐसे में सवाल उठता है कि क्या जवान को सच बोलने की सज़ा दी गई है.

बीएसएफ की तरफ से कहा गया है कि ड्यूटी के दौरान मोबाइल का इस्तेमान करने के कारण उनपर ये कार्रवाई की गई है. नियमों के मुताबिक, ड्यूटी करते वक्त कोई भी जवान फोन का इस्तेमान नहीं कर सकता. कहा जा रहा है कि तेज बहादुर पहले भी प्लंबर का काम कर चुके हैं.

तेज बहादुर के वीडियो पर आज गृह मंत्रालय को रिपोर्ट देगी बीएसएफ
दूसरी तरफ बीएसएफ के जवान तेज बहादुर के वीडियो पर आज बीएसएफ गृह मंत्रालय को रिपोर्ट सौंपेगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सीमा सुरक्षा बल  से एक जवान के इस दावे से जुड़े मामले में आज रिपोर्ट मांगी है कि नियंत्रण रेखा पर सैनिकों को घटिया खाना खिलाया जाता है। सोशल मीडिया पर इस जवान के पोस्ट करने के बाद प्रशासन ने आरोपों की जांच का निर्देश दिया है। अधिकारियों के मुताबिक बीएसएफ मुख्यालय इस मामले में गृह मंत्रालय को पहले ही प्राथमिक रिपोर्ट दे चुका है और पूर्ण रिपोर्ट जम्मू कश्मीर में तैनात उपमहानिरीक्षक स्तर का अधिकारी द्वारा तैयार की जा रही है।

क्या है मामला
आपको बता दें कि बीएसएफ के जवान ने सोशल मीडिया के जरिए सरकार से गुहार लगाई है कि जवानों को खाने को खराब खाना दिया जाता है क्योंकि अफसर भ्रष्ट्राचार में लिप्त है। इससे पहले बीएसएफ ने प्रेस रिलीज कर अपना पक्ष रखा कि जवानों को बेहतर और अच्छा खाना ही खिलाया जाता है। सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो को अब तक करीब साढ़े 5 लाख लोग देख चुके हैं।