इंडोनेशिया ने एक भारतीय सहित 14 लोगों की मौत की सजा रोकने की अंतरराष्ट्रीय अपील ठुकराई

232

इंडोनेशिया ने एक भारतीय सहित 14 लोगों की मौत की सजा रोकने की अंतरराष्ट्रीय अपील ठुकराई

 

इंडोनेशिया ने ड्रग तस्करी के अलग-अलग मामलों में दोषी करार दिए गए 14 लोगों को मृत्युदंड न देने की संयुक्त राष्ट्र और यूरोपीय संघ (ईयू) की अपील ठुकरा दी है. इनमें भारत, नाइजीरिया, पाकिस्तान और जिंबाब्वे के साथ-साथ इंडोनेशिया के नागरिक शामिल हैं. सभी दोषियों को नुसाकामबंगन जेल में रखा गया है जहां उन्हें गुरुवार रात गोली मार दी जाएगी. इनमें जालंधर निवासी गुरदीप सिंह शामिल है. बुधवार को विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्विटर पर लिखा था कि गुरदीप को बचाने के लिए सभी कोशिशें की जा रही हैं.

बुधवार को संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार संगठन के हाई कमिश्नर जैद राद अल हुसैन ने इंडोनेशिया से मृत्युदंड का अन्यायपूर्ण इस्तेमाल रोकने की अपील की थी. ईयू ने भी मृत्युदंड को क्रूर और अमानवीय सजा बताते हुए इसे रोकने को कहा था. ईयू ने कहा था कि यह तरीका ऐसे अपराध रोकने में असफल है. लेकिन, इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो ने नशीली दवाओं के बढ़ रहे इस्तेमाल को रोकने के लिए मौत की सजा देने का समर्थन किया है.

इंडोनेशिया ने आखिरी बार अप्रैल 2015 में ड्रग तस्करी के मामले में दो ऑस्ट्रेलियाई नागरिकों सहित आठ लोगों को मौत की सजा दी थी.

 

source:-http://satyagrah.scroll.in/article/101512/indonesia-rejection-international-pleas-halt-executions